लड़की होने के अहसास पे कितना गर्व महसूस करती थी तुम

ये lines मेरी एक दोस्त के लिए है जिससे पहले पहल जब मैं मिली थी तो मुझे लगता था कि यार कितनी strong हैं ये काश मैं भी इसके जितनी strong बन जाऊं so that I also can take step against the things which are wrong

But gradually when I came to know more about her I found that she was totally different person in front of her family और उस दिन मुझे असल जिंदगी में अहसास हुआ कि कोई बाहर का इंसान हमे नही तोड़ता बल्कि हमे तोड़ने वाले हमारे अपने होते हैं, आज की मेरी ये lines ना किसी से सवाल करेंगी ना किसी का जवाब मांगेगी, ये करेंगी तो बस बयाँ हर उस स्थिति को जो आपको ना चाहते हुए भी सहन करनी पड़ती है। क्योंकि हर लड़की कंगना मैम की तरह घर छोड़ के अपने सपने पूरे कर सके इतनी daring नही होती। lines कुछ इस तरह से है

लड़की होने के अहसास पे कितना गर्व महसूस करती थी तुम, कभी सोचा न था लड़की होना सबसे बड़ी सजा बन जाएगा तुम्हारे लिए

बचपन मे छोटे छोटे सपने बुनकर उनको पूरा करने की हर मुमकिन कोशिश करती थी तुम। बच्चो वाले खिलौने छोड़ कर ….उस आश्रम की इस कमी को पूरा करना है उस गौशाला की गायों के लिए वो लाना हैं… वाले सपने बुनती थी तुम, लड़की होने के अहसास पे कितना गर्व महसूस करती थी तुम।

फिर…. जब अपने सपनो को समेटे एक छोटे से गांव से दिल्ली आई थी तुम, तो किसी के भी गलत होंने पे बेझिझक लड़ लेती थी तुम…. और सबसे जरूरी ….अपने सपनों की दिशा में बहुत तेज़ी से आगे बढ़ रही थी तुम, लड़की होने के अहसास पे कितना गर्व महसूस कर रही थी तुम।

अपने लिए थोड़ा सा कर दुसरो के लिए बहुत ज्यादा करने की तमन्ना रखती थी तुम, अपने सपनो और अपने परिवार को अपना अभिमान समझती थी तुम, लड़की होने के अहसास पे कितना गर्व महसूस करती थी तुम।

पर फिर वो दिन आया..जिसका अंदाज़ा भी तुमने न था लगाया, जिसको समझना और समझाना मुश्किल समझ रही थी तुम, पर क्योंकि वो तुम थी इसलिये उस गंदगी को बेपर्दा करना जरूरी समझी तुम, हालांकि बात परिवार के ही इंसान की थी तो थोड़ा डर रही थी तुम, लडक़ी होने के अहसास से लड़ रही थी तुम।

काफी हिम्मत कर के फिर तुमने कदम उठाया , और अपने घर पे सारा बीता किस्सा सुनाया….. पर I think थोड़े से गलत को भी बहुत गलत मानती थी तुम, तभी तो लड़की होने के अहसास पे इतना गर्व महसूस करती थी तुम।

पर काश…. काश अपने परिवार के बाकी सदस्यों की तरह तुम भी ये समझ पाती…समझ पाती की गलती घर के उस लड़के की नही उसके जवानी में आने वाले जोश की थी, काश तुम भी ये समझ पाती की गलती तुम्हे छूते उसके हाथों की नही तुम्हारे कपड़ो की लंबाई की थी… गलती अपनी सोच से तुम्हे नंगा कर देने वाली उसकी नजरो की नही तुम्हारे जरूरत से ज्यादा सुंदर होने की थी।

काश ये पहले समझकर चुप रही होती तुम तो अपने ही घर मे यूँ बेगानी न होती तुम, काश अपनी बेमोल इज्जत के सामने परिवार की अनमोल इज़्ज़त समझ पाती तुम तो अपने लड़की होने के अहसास की यूँ न मौत पाती तुम।।

I wanna make it very clear that I’m not against any particular gender.

I have lot of friends who are boys, I have colleagues who are boys, and I heartily respect them. But being true I have a number of female friends who are not even able to take the decision of going market alone despite of being well educated. A number of friends who can’t raise the voice against violence in their own house they are suffering from just because their own parents don’t support them in taking decision against wrong because of their so called respect in the society. This has been happening since ages.

Happiest mother’s day

You kept me for soooooo long in your tummy….so that I can call you my mummy😋

You brought me in this world as my saviour….while you, yourself were fighting for your life as a warrior 💪

For giving my life a way….my that phase of life wishes you a very happiest mother’s day😊

Now as I have come in this world with a whole heap of feelings….you are the one who taught me their dealings🤘

Whenever I stuck in life’s ups and down….. You are the one who has always kept me blown🌅

Soooooo for giving my life a ray…my this phase of life wishes you a very happiest mother’s day

I expressed this today instead of on mother’s day….as for us (children)…. yesterday, today and everyday are mother’s day🌅🤗

Do you love yourself for being you?…. I do😊

In search of me, I usually go inside me, Where I find a flood of thoughts… Thoughts which keep sucking me day and night, A thought that looks at me while I’m laughing out of my heart on my brother’s stupid talks in public And that though secretly indicates me only for not to laugh alot, why? Because I’m a girl. And at that moment, I hate myself, I hate myself not for being a girl but for being me. In search of me I usually go inside me, Where a secret sight is keeping an eye on the length of my clothes and secretly advising me on… Which should I wear to get rid of society’s comments, And at that time I hate myself I hate myself not for being a girl but for being me. In search of me I usually go inside me Where a secret custom is compelling me to get married in my early 20’s so that my parents can live a responsibility or a burden free life, At that moment I hate myself I hate myself not for being a girl but for being me. In search of me I usually go inside me Where a hidden fear is forcing me to be with a male member while going outside from home so that, that so called male physic can safeguard my own body, And at that moment I hate myself I hate myself not for being a girl but for being me. Meanwhile at the same time, Instead of hating I love myself for being me as I no longer need a monologue on girl’s do’s and don’t. I demand an ultimatum, ultimatum to keep your secret sight away from me As I’m the one who’s authentic and who fulfill my desires my needs by my own I’m the one who dream bigger than you think And most importantly I love myself for being me.